Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.
Mahesh

इंश्योरेंस के नाम पर ठगी , फर्जी कॉल सैन्टर का भन्डाफोङ

6
Deepak Kataria

इंश्योरेंस के नाम पर ठगी , फर्जी कॉल सैन्टर का भन्डाफोङ

फर्जी कॉल सैन्टर के मालिक व कॉलर सहित कुल 04 गिरफ्तार

’कॉल सैन्टर के मालिक की पहचान सुनील कुमार के रुप में हुई

सुनील 2018 से 2021 तक इन्शोरेन्स कम्पनी में नौकरी कर चुका

दिल्ली में किराए पर कमरा लेकर धोखाधङी का काम शुरू किया

01 लैपटॉप, 09 कालिंग हैडसेट, 31500 तथा डाटा किया बरामद

फतह सिंह उजाला
गुरूग्राम।
  तीन अगस्त को गुरुग्राम की रहने वाली एक महिला ने पुलिस थाना साईबर क्राईम, पश्चिम गुरूग्राम में शिकायत दी कि किसी अन्जान कालर ने एक इंश्योरेंस कम्पनी का प्रतिनिधी बनकर कॉल किया व इंश्योरेंस कराने के नाम पर 50000/- रुपए की धोखाधङी कर ली। इस सम्बन्ध में धारा 420 – 66 डी अआईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया।  

इस मामले में निरीक्षक जसवीर सिंह प्रबंधक थाना साईबर क्राईम, पश्चिम गुरूग्राम की टीम ने ं कार्यवाही करते हुए पूर्व आजाद नगर, नई दिल्ली से कालिंग करके पॉलिसी देने के नाम पर लोगों के साथ ठगी करने में सक्रिय एक फर्जी कॉल सैन्टर का भन्डाफोङ किया तथा कॉल सैन्टर के मालिक व कॉल सैन्टर पर कॉलिंग करने वाले एक लङके व 02 लङकियों सहित कुल 04 आरोपियों को काबू किया गया। ’कॉल सैन्टर के मालिक की पहचान सुनील कुमार के रुप में हुई।’

आरोपियों से पूछताछ में ज्ञात हुआ कि इस फर्जी कॉल सैन्टर का मालिक सुनील कुमार वर्ष 2018 से 2021 तक एक इन्शोरेन्स कम्पनी में नौकरी करता था और उसके बाद इसने नामी इंश्योरेंस कम्पनी के नाम पर लोगों के पास कॉल करके उन्हें फर्जी पॉलिसी देकर रुपए ठगी करने का काम शुरु कर दिया। इस काम के लिए इसने दिल्ली में किराए पर कमरा लेकर लिया व धोखाधङी का काम शुरू कर दिया। कॉल सैन्टर मालिक कॉलर को सेलरी के अतिरिक्त 03 प्रतिशत कमीशन भी देता था। कॉलर अपना नाम बदलकर इंश्योरेंस कम्पनी का प्रतिनिधी बनकर लुभावनी पॉलिसी कस्टमर को बताते और उसके धोखाधङी से पॉलिसी के नाम पर उनसे रुपए ट्रान्सफर करवा लेते थे तथा इनके द्वारा कोई पुरानी पॉलिसी एडिट करके कस्टमर को ई-मेल या व्टस्एप के माध्यम से भेज देते।

03 महिनों में 150 लोगों को शिकार बनाया
कस्टमर का डाटा यह अपने एक अन्य साथी से लेता था तथा उसी डेटा के आधार पर ये अपने साथियों के साथ मिलकर लोगों को कॉल करके उन्हें अपना शिकार बनाते थे।  ’पिछले करीब 03 महिनों में ही ये करीब 150 लोगों को अपना शिकार बना चुके थे, जिनसे ये लोग लाखों रुपयों की ठगी कर चुके थे।’ पुलिस टीम द्वारा ’आरोपियों के कब्जा से 01 लैपटॉप, कालिंग में प्रयोग 09 कालिंग हैडसेट (मोबाईल फोन्स), 31500 रुपयों की नगदी तथा पीडित कस्टमरों के डाटा बरामद’ किया गया है। पुलिस टीम द्वारा लङकियों को मामले में शामिल अनुसंधान किया गया तथा उपरोक्त आरोपी सुनील कुमार व कर्ण सैक्सेना को माननीय अदालत में पेश करके एक दिन का पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लिया गया है। पुलिस हिरासत रिमाण्ड के दौरान आरोपियों से अन्य वारदातों व अन्य साथी आरोपियों के बारे में गहनता से पूछताछ करके बरामदगी की जाएगी। 

Mukesh Sharma

Comments are closed.

%d bloggers like this: