Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

नूरगढ़ के सोहम आश्रम में सवा लाख दिये रोशन किए गए

0 16
Poonam

दीपावली पर दीपोत्सव

नूरगढ़ के सोहम आश्रम में सवा लाख दिये रोशन किए गए

नूरगढ़ आश्रम में दिखाई दिया अयोध्या जैसा अलौकिक श्रृंगार

श्रद्धालुओं ने ब्रह्मलीन स्वामी सोमदेव के विश्राम स्थल पर किया नमन

ऐसे लगा अमावस्या की काली रात आसमान से तारे आश्रम में समाए

फतह सिंह उजाला
गुरूग्राम/नूरगढ़। 
सनातन प्रेमियों सहित भगवान श्री राम के भक्तों के साथ-साथ हिंदुत्व के ध्वजवाहको  के लिए सबसे बड़ा दीपावली पर्व के मौके पर तमाम श्रद्धालु अपने-अपने मनोभाव सहित श्रद्धा पर नियंत्रण नहीं रख सके ।

इसी कड़ी में पटौदी विधानसभा क्षेत्र के गांव नूरगढ़ में स्थित सोहम आश्रम में दीपोत्सव का एक अलौकिक श्रृंगार देखने के लिए मिला । एक तरफ तो अयोध्या में 493 वर्ष के बाद भगवान श्री राम की स्मृति में उनकी जन्मस्थली अयोध्या को दीपों से सजाया गया । वही नूरगढ़ स्थित सोहम आश्रम में भी स्थानीय ग्रामीणों, श्रद्धालुओं के द्वारा यहां सवा लाख दिये रोशन कर एक प्रकार से अयोध्या का प्रतिबिंब का साक्षात एहसास करा दिया गया। पशु पक्षियों के उपचार के साथ-साथ पक्षी प्रेमी, जीव कल्याण और सेवा को समर्पित अर्पित ब्रह्मलीन स्वामी सोमदेव महाराज की तपोस्थली  सहित कर्म स्थली सोहम आश्रम के चप्पे-चप्पे पर केवल और केवल रोशन दीपक ही दिखाई दे रहे थे ।

Computer

यह नजारा यह दृश्य स्थानीय ग्रामीणों और श्रद्धालुओं के मुताबिक शताब्दियों सहित सदियों तक एक यादगार बना रहेगा । यहां आने वाले श्रद्धालुओं ने स्वामी सोमदेव महाराज के अंतिम आश्रय स्थल पर श्रद्धा पूर्वक नमन कर महान हुतात्मा का आशीर्वाद भी लिया । कई एकड़ परिसर में फैले सोहम आश्रम की हर दीवार और प्रत्येक पत्थर पर केवल और केवल प्रकृति के प्रेम , जीव कल्याण , अध्यात्म के संदेश, गीता के उपदेश सहित जीवन को सार्थक बनाने वाली शिक्षाप्रद ज्ञानवर्धक बातें ही लिखी हुई हैं । यहां आश्रम में असाध्य रोगों के उपचार के लिए भी व्यवस्था है । सोहम आश्रम और यहां किए जा रहे समाज सुधारक  कार्य, पर्यावरण के हित के कार्य , जीव कल्याण के कार्य को लेकर इसकी ख्याति संपूर्ण उत्तर भारत में बनी हुई है । दीपावली की काली अमावस्या रात्रि के मौके पर दिन ढलने के साथ जैसे-जैसे सोहम आश्रम में दीये रोशन होने लगे और विभिन्न प्रकार की रंगीन रोशनी भी जगमगाहट आने लगी तो कई किलोमीटर दूर से ही इसका एहसास ग्रामीणों को होने लगा कि निश्चित ही इस बार भी सोहम आश्रम का दीपोत्सव श्रृंगार अलौकिक होगा और देर रात तक श्रद्धालु यहां आश्रम में आने से स्वयं को भी नहीं रोक सके ।

cctv

Leave a Reply

%d bloggers like this: