Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.
dalip

कैप्टेन अमरिंदर द्वारा एकदम कांग्रेस छोडना विश्वासघात :अजय यादव

0 2
Poonam

कैप्टेन अमरिंदर द्वारा एकदम कांग्रेस छोडना विश्वासघात :अजय यादव

अमरिंदर सिंह का गृह मंत्री अमित शाह से मिलना बहुत ही दुर्भागयपूर्ण

अमरिंदर सिंह को अपने फैंसले पर एक बार फिर विचार करना चाहिए

फतह सिंह उजाला
गुरूग्राम। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री कैप्टेन अजय सिंह यादव ने कहा कि पंजाब के सीएम रहेे कैप्टेन अमरिंदर सिंह द्वारा कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देना बडा ही दुर्भागयपूर्ण है। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांध ने उनको 3 बार पंजाब कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया और लगभग 10 वर्ष उनको मुख्यमंत्री बनाया ।

अब जब 4 महीने बाद ही पंजाब में चुनाव हैं, इस समय कैप्टेन अमरिंदर सिंह द्वारा एकदम से पार्टी को छोडना विश्वासघात है। यादव ने कहा कि जब उन्हे पहली बार पंजाब कांग्रेस कमेटी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया , उस समय वे अकाली छोड कर आए थे। फिर भी कांग्रेस पार्टी ने उन पर विश्वास किया और उनको प्रदेश अध्यक्ष बनाया था। अब उनको कांग्रेस पार्टी पर विश्वास रखना चाहिए। जिस पार्टी ने उनको इतना मान-सम्मान दिया है वो आगे भी उनको पूरा मान-सम्मान देगी। कैप्टेन अजय सिंह ने कहा कि आदरणीय राहुल गांधी जी जो कि साम्प्रदायिक ताकतों के विरुद्ध जमकर लड रहे हैं ऐसे में कैप्टेन अमरिंदर सिंह को कंधे से कंधा मिलाकर राहुल जी का साथ देना चाहिए।

Computer

यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री से तो उनको इसलिए हटना पडा क्योंकि 45 विधायकों ने लिखित में उनके खिलाफ दिया था वे विश्वास प्रस्ताव खो चुके थे। लेकिन उनका गृह मंत्री अमित शाह से मिलना बडा ही दुर्भागयपूर्ण है। क्योंकि भाजपा का तो काम ही बांटने का है। ऐसे में यदि वे भाजपा नेताओं से मिलेगें और अलग पार्टी बनाएगें तो साम्प्रदायिक पार्टीयों की मदद करेगें।

कैप्टेन अजय सिंह ने कहा कि उन्होंने स्वयं ही 2017 में कहा था कि यह उनका आखिरी चुनाव है और उनकी आयु 80 वर्ष हो चुकी है। इसलिए अब उनको इज्जतपूर्ण तरीके से राजनीति से रिटायर्ड होना चाहिए और कांग्रेस पार्टी के मार्गदर्शक बनकर रहना चाहिए। यादव ने कहा कि कैप्टेन अमरिंदर सिंह जिन्होंने सेना में रहते हुए देश की सेवा की है। उनको एक बार फिर विचार करना चाहिए क्यों कि कई बार इंसान बिना सोचे समझे जल्दबाजी ने निणर्य लेता है। इसलिए अमरिंदर सिंह को एक बार फिर विचार करना चाहिए और कांग्रेस पार्टी जिन्होंने उनको इतना कुछ दिया है, फिर से कांग्रेस पार्टी के लिए कार्य करें और आने वाले पंजाब चुनाव में एकजुट होकर साम्प्रदायिक ताकतों के खिलाफ लडना चाहिए।

Reply to allReplyForward
cctv

Leave a Reply

%d bloggers like this: