Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

हरियाणा राज्य में आक्सीजन की कोई कमी नहीं: टी सी गुप्ता

0 6
Poonam

हरियाणा राज्य में आक्सीजन की कोई कमी नहीं: टी सी गुप्ता

गुरूग्राम में कोविड-19 के मरीजो के लिए 800 बैड उपलब्ध होंगे

गुरूग्राम के माॅनिटरिंग अधिकारी एसीएस  गुप्ता ने की समीक्षा

गुरूग्राम में रेमडेसिविर इंजेक्शन की 800 से ज्यादा वाईल उपलब्ध

फतह सिंह उजाला
गुरूग्राम। गुरूग्राम के सभी सरकारी तथा निजी अस्पतालों में कोविड मरीजों के लिए बैड की संख्या बढाकर 800 की जाएगी। यह निर्णय हरियाणा सरकार के अतिरिक्त मुख्य सचिव टी सी गुप्ता की अध्यक्षता में गुरूग्राम के लोक निर्माण विश्रामगृृह में आयोेजित नोडल अधिकारियों की बैठक में गुरूग्राम जिला प्रशासन ने लिया है। प्रशासन ने टीसी गुप्ता को विश्वास दिलाया है कि गुरूग्राम जिला के कोविड मरीजों के लिए अस्पतालों में बैड की कमी नहीं रहेगी।ं गुरूग्राम की जिम्मेदारी भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारीं अतिरिक्त मुख्य सचिव टी सी गुप्ता को सौंपी गई है। गुप्ता ने सोमवार को गुरूग्राम पहुंचकर सभी नोडल अधिकारियों के साथ बैठक की और उन्हें दिए गए दायित्वों की रिपोर्ट तलब की।

Computer

बैठक में गुरूग्राम के अस्पतालों में कोविड मरीजों के लिए बैड की उपलब्धता सुनिश्चित करने पर बल दिया और कहा कि इससे संबंधित डाटा पोर्टल पर अपडेट करते रहें ताकि लोगों को पता चल सके कि किस अस्पताल में कोविड मरीजों के लिए कितने बैड आरक्षित हैं और उनमें से कितने भरे हुए हैं।  गुरूग्राम के डीसी डा. यश गर्ग ने बताया कि हर अस्पताल के लिए एक वरिष्ठ अधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है, जो उस अस्पताल में आईसीयू, वेंटिलेटर तथा आॅक्सीजन युक्त बैड पर दाखिल प्रत्येक मरीज का स्वास्थ्य चार्ट देखते हैं और पता लगाते हैं कि उसे वास्तव में उस श्रेणी के बैड की आवश्यकता है या नहीं। गुप्ता ने हर अस्पताल के इंचार्ज अधिकारी से पूछा कि अस्पताल में कुल बैड की संख्या कितनी है, उसमें से कोविड मरीजों के लिए कितने आरक्षित हैं, कितने बैड भरे हुए हैं और कितने खाली हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि उपायुक्त द्वारा बैड आरक्षित करने के संबंध में जारी किए गए आदेशों को कड़ाई से लागू किया जाए। बैठक के बाद श्री गुप्ता गुरूग्राम के कुछ अस्पतालों तथा कंटेनमेंट जोन का मौका मुआयना भी करने गए। उन्होंने यह भी बताया कि हरियाणा में आॅक्सीजन की कमी नही है। राज्य में 272 मीट्रिक टन आॅक्सीजन का उत्पादन हो रहा है और प्रदेश में अब कोविड पीक समय मंे भी खपत 60 मीट्रिक टन के आस-पास है। श्री गुप्ता ने कहा कि किसी अस्पताल में सिलेंडर आदि की दिक्कत हो सकती है लेकिन आॅक्सीजन की सप्लाई की कोई दिक्कत नही है।

हैल्पलाईन 1950 की 20 लाईनें 24 घंटे चालू
कोविड मरीजों के लिए किए गए प्रबंधों की समीक्षा के दौरान टी सी गुप्ता को बताया गया कि कोविड मरीजों की सुविधा के लिए जिला प्रशासन द्वारा हैल्पलाईन नंबर 1950 चलाया जा रहा है जिसका प्रबंधन एडीसी प्रशांत पंवार देख रहे हैं।  पंवार ने बताया कि इस हैल्पलाईन नंबर की 20 लाईने 24 घंटे चल रही हैं जिन पर तीन शिफटों मंे 60 आॅपे्रटरों की ड्यूटी लगाई गई है। इन आॅपे्रटरों को एफएक्यू के अलावा सभी पीएचसी तथा एंबुलैंस आदि का डाटा दिया गया है।

11244 मरीज हैं होम आइसोलेशन में
बैठक में यह भी बताया गया कि गुरूग्राम में 11244 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। जिला में होम आइसोलेशन का 10 दिन का समय निर्धारित है और उन सबसे चिकित्सकों की टीम द्वारा काॅल करके हाल चाल पूछा जाता है। नगर निगम गुरूग्राम की अतिरिक्त आयुक्त जसप्रीत कौर ने गुप्ता को टेस्टिंग लैब से लेकर होम आइसोलेशन तक की पूरी प्रक्रिया बताई। जसप्रीत ने बताया कि पाॅजिटिव पाए जाने वाले केस संबंधित पीएचसी को भेज दिए जाते हैं। उनमें से जो नहीं मिलते उनकी डिटेल गुरूग्राम पुलिस को भेजी जाती है। पिछले एक सप्ताह में पुलिस को 3300 केस भेजे गए जिनमें से 1200 मामलों की सूचना मिल चुकी है।  अनटेªस पाॅजिटिव केसों को तलाशने के लिए जोन वाईज पांच टीमें लगी हुई हैं। कोविड प्रोटोकोल अर्थात् ठीक ढंग से मास्क नहीं पहनने वालों तथा सोशल डिस्टेंसिंग नियम की अवहेलना करने वालों के इस महीने के दौरान प्रतिदिन लगभग एक हजार चालान किए जा रहे थे, जिनकी संख्या पिछले एक सप्ताह से बढाकर 1500 से 2000 तक कर दी गई है। साथ ही उन्होंने बताया कि यदि कोई गरीब व्यक्ति बिना मास्क के मिलता है तो उसका गुरूग्राम पुलिस चालान नहीं करती बल्कि उसे समझाकर उसको मास्क भी देती है।

कोविड मरीजों के लिए 18 आइसोलेशन सैंटर
सरकार की माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने के निर्देशों के अनुसार गुरूग्राम में वर्तमान में 119 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। इनमें डोर टू डोर थर्मो स्कैनिंग के लिए स्वास्थ्य विभाग ने 22 टीमें लगा रखी हैं। श्री गुप्ता को यह भी बताया गया कि जिला में 7 एंबुलैंस केवल कोविड मरीजांे के लिए निर्धारित की गई हैं। समीक्षा के दौरान नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त सुरेंद्र सिंह ने बताया कि कोविड मरीजों के लिए जिला में 18 आइसोलेशन सैंटर बने हुए हैं, जिनमें वर्तमान में 142 मरीज रह रहे हैं। यह भी बताया गया कि जिला में रेमडेसिविर इंजेक्शन की 800 से ज्यादा वाईल उपलब्ध हैं।

cctv

Leave a Reply

%d bloggers like this: